< img height="1" width="1" style="display:none" src="//q.quora.com/_/ad/8cb7f305ad04491ba48248a6b9cd04f3/pixel?tag=ViewContent&noscript=1"/>
MediabhartiHindi
2020-07-20

मां यशोदा के कहने पर कृष्ण मथुरा में ही ले आए थे चारों धाम

credit: third party image reference

ब्रज क्षेत्र के चौरासी कोस परिक्रमा मार्ग में उत्तर प्रदेश के अलावा राजस्थान और हरियाणा राज्य का क्षेत्र भी आता है। राजस्थान की सीमा से करीब 14 कोस की परिक्रमा क्षेत्र के अंदर ही भगवान श्री कृष्ण द्वारा रचा गया केदारनाथ धाम मौजूद है।

चौरासी कोस परिक्रमा के तहत राजस्थान की सीमा में आने वाले गांव विलोंद के निकट एक पहाड़ पर भगवान केदारनाथ शेषनाग रूपी एक विशाल श्वेत पत्थर की चट्टान के नीचे छोटी से गुफा में विराजमान हैं। इस चट्टान की तलहटी में गौरीकुंड स्थित है। इस कुंड के जल से जलाभिषेक करने का विशेष महत्व है।

credit: third party image reference

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार एक बार भगवान श्रीकृष्ण के पालनकर्ता नंद बाबा और मां यशोदा ने अपनी वृद्धावस्था में कृष्ण के सम्मुख चारों धामों की तीर्थयात्रा की इच्छा जताई थी। यह जानकर श्रीकृष्ण ने सभी धामों से बृज क्षेत्र में प्रतिस्थापित होने का आह्वान किया। तब से यह मान्यता है कि चारों धाम के साथ अन्य तीर्थों के प्रतिरूप ब्रज क्षेत्र में आज भी मौजूद हैं।

स्थानीय इतिहासकारों के अनुसार, द्वापर युग में जब वृद्ध नंद बाबा और यशोदा को संतान नहीं हुई, तो उन्होंने भगवान शिव शंकर से मन्नत मांगी कि पुत्र होने पर वे चार धाम की यात्रा करेंगे। इसके बाद करीब-करीब वृद्धावस्था में श्रीकृष्ण उनके यहां छोटे बालक के रूप में अवतरित हुए।

credit: third party image reference

कृष्‍ण की गौचरण लीला के बाद नंद बाबा और यशोदा को चारधाम की यात्रा का संकल्प याद आया। इसके बाद उन्‍होंने तीर्थ यात्रा पर जाने की तैयारी शुरू कर दी। लेकिन, श्रीकृष्ण ने योग माया से चारों धामों का आह्वान कर उन्हें ब्रज में ही बुला लिया और एक-एक करके सारे तीर्थ ब्रज में आकर उपस्थित हो गए। इसलि‍ए, माना जाता है कि चारों धामों के साथ अन्‍य तीर्थ भी ब्रज में ही हैं। उन्हीं एक धाम में से केदारनाथ धाम की भी यहां इस रूप में मौजूदगी है।

The views, thoughts and opinions expressed in the article belong solely to the author and not to RozBuzz-WeMedia.
270 Views
0 Likes
0 Shares